जब रातों-रात गायब हो गया कनाडा का एक गांव

aaj tak news,आज तक खबर, पालतू जानवर,नियुज आज तक, शहर और गांव,दुनिया की आबादी, की & का

दोस्तों, दुनिया रहस्यों से भरी हुई है, कुछ ऐसे रहस्य जो सुलझा लिए गए, लेकिन कुछ रहस्य ऐसे भी जिनके बारे में सुनते ही दिमाग गहरी सोच में चला जाता है। आज हम आपको ऐसे गांव का किस्सा सुनाएंगे जहाँ के रहने वाले लोग एक ही रात में अचानक गायब हो गए।

सुनकर ही थोड़ा अजीब लगता है और आप सोच रहें होंगे कि, क्या सच में ऐसा हुआ है? जी हां एक ऐसा गांव जिसका रहस्य आज तक नही सुलझ पाया कि आखिर कहा गए उस गांव में रहने वाले लोग। यह किस्सा है कनाडा में स्थित ‘अंजिकुनी लेक’ का जिसके किनारे कभी एक गांव हुआ करता था। आइये ले चलते हैं आपको उस समय में जहाँ ‘जो लाबेल’ नाम का एक व्यक्ति भटकते हुए वहां पंहुचा।

मदद के लिए जो लाबेल गए गांव में

साल 1930 नवम्बर के महीने की एक शाम को ठण्ड से बचने के लिए एक कनेडियन जिसका नाम ‘जो लाबेल’ था गरम स्थान की तालाश में अंजिकुनी लेक के किनारे बसे गाव में जा पहुंचा क्योंकि वह पहले भी इस गांव में आया हुआ था और उसे पता था यहां कोई न कोई व्यवस्था हो ही जायगी जहाँ वह रात काट सके। जब वह उस गांव में पहुंचा तो उसने मदद के लिए लोगों को आवाज लगाई, लेकिन उसे अपनी आवाज के अलावा किसी और की आवाज सुनाई नहीं दी। उसे वहाँ सिर्फ सूने और खस्ताहाल पड़े हुए घर नजर आ रहे थे।

आप इन पे भी नज़र डाल सकते हो :-

 भारत का शेर कहा जाने वाला पठान

चारो तरफ था सिर्फ सन्नाटा

लाबेल को वहां ना तो कोई इंसान नजर आ रहा था और ना ही कोई जानवर की आवाज आ रही थी। उस समय वहां ज़िन्दगी का कोई सबूत नही था और चारों तरफ बास शान्ति पसरी हुई थी। लाबेल ने देखा किसी के घर में चिमनी की रौशनी तक नही जल रही थी उसने इधर उधर नजर मारी, लेकिन उसे कोई दिखाई नही दिया। फिर उसने सोचा शायद किसी कारण की वजह से लोग यहाँ से कहीं और चले गए हो। वह रात काटने के लिए एक घर में घुसा ही था कि उसने पाया घर में सारा का सारा सामान वैसे के वैसे ही रखा हुआ था लग ही नही रहा था के लोग यह जगह छोड़कर कही गए भी हैं। घर में उसने वह देखा जिसे देखकर उसके रोंगटे खड़े हो गए उसने देखा कि किचन में आधा पका हुआ खाना पड़ा हुआ था और चूल्हा भी जल रहा था। यह देख कर वह घबरा गया और घर से बाहर भाग आया।

सभी घरो में था एक जैसा हाल

जब जो लाबेल उस घर से बाहर आया तो उसे समझ नही आ रहा था कि आखिरकार चल क्या रहा है। उसने हिम्मत कर के लगभग सभी घरो में जाकर देखा तो सभी जगह यही हाल था। किसी घर में सब्जी आधी कटी हुए टेबल पर रखी थी तो कही आधा बुना हुआ स्वेटर रखा था। ऐसा लग रहा था कि लोग आधा अधूरा काम छोड़कर गायब हो गए हैं। यह सब देख वह और ज्यादा घबरा गया और भूख प्यास की चिंता छोड़ कड़कती ठंड में उस गांव से भाग निकला।

पुलिस भी नही समझ पाई कि ऐसा क्या हुआ वहाँ

गांव से बाहर आकर लाबेल एक टेलीग्राफ ऑफिस पंहुचा और उसने पूरी खबर शहर में फैला दी, कुछ मिनट बाद ही वहां इमरजेंसी घोषित कर दी गयी। इस जानकारी की पूरी सूचना जब लाबेल ने वहां की रोयाल कैनेडियन माउंटेड पुलिस को दी तब पुलिस ने वहा जाकर इस मामले की छानबीन की, लेकिन कोई फायदा नही हुआ।

आप इन पे भी नज़र डाल सकते हो :-

 इस किले को जीतने के लिए बाबर ने एक ही रात में कटवा डाला पूरा पहाड़

दिखायीं पड़ी थी अजीब सी चमकती रौशनी

कुछ दिन बाद जब पुलिस ने दुबारा इस घटना की जांच वहाँ आस पास के गांव में रहने वाले लोगो से जाकर करवाई और इस घटना के बारे में पूछा गया तब लोगों ने बताया कि उन्होंने वहाँ पर कुछ दिन पहले हवा में एक चमकती उड़ती हुई अजीब सी चीज देखी थी ,जो बार-बार अपना आकार बदल रही थी और वह अजीब सी चीज लगातार अंजिकुनी गांव की तरफ ही बढ़ रही थी।

महीनों की छानबीन के बाद पुलिस को पता लगा कि गाँव से थोड़ी दूरी पर दो तीन ‘स्लेड डॉग्स’ के कंकाल पाए गए हैं। ‘कनेडियन पैथालॉजिस्ट’ का कहना था कि उन डॉग्स की मौत का कारण भूख था खाना न मिलने की वजह से उनकी मौत हुई। लेकिन वैज्ञानिक यह नही समझ पाए कि जिस अंजिकुनी गाँव में खाना भरपूर मात्रा में उपलब्ध रहता था वे वहां से दूर भाग कर क्यों गए? आखिर ऐसा क्या हुआ था अंजिकुनी गांव में जहाँ लोग अपना अधूरा काम छोड़कर ही गायब हो गए और वहां कुत्ते, पालतू जानवर का भी कोई नामो निशान तक नहीं मिला।

गांव की आबादी उस समय लगभग 2000 तक रही होगी

दोस्तों इस बात से आज तक पर्दा नही उठ पाया के उस गांव के लोग कहाँ गायब हुए और गायब नहीं भी हुए तो कहाँ गए। यह घटना रहस्यों की दुनिया में एक और किस्सा बन के रह गयी है जिसका खुलासा आज तक नहीं हो पाया है।

1 thought on “जब रातों-रात गायब हो गया कनाडा का एक गांव”

Leave a Reply