Life

यूरोप के बुल्गारिया में दुल्हनें बिकती हैं… आखिर क्यों?

लड़कियों की पसंद, न से नाम, दौड़ के नियम, लड़कियों के बारे में,लड़की के मेल के बारे मे,मेले का दृश्य,गांव की लड़की,गाँव की लड़की,महादेव के नाम,भारतीय दुल्हन
mm
Written by Shweta Singh

आप ने कई तरह के बाज़ार के बारे में सुना होगा. जानवरों को बेचने का बाज़ार या मेला तो आपने अक्सर देखा या सुना होगा. लेकिन क्या आपने कभी दुल्हनों के बाज़ार के बारे में सुना है. कहीं आपके सामने किसी फिल्म का कोई दृश्य तो नहीं उभर आया जिसमे में अरब देश का कोई शेख किसी लड़की की खरीद फरोख्त कर रहा है या फिर अरब में हो रही ऊंट दौड़ के लिए किसी लड़की की बोली लगायी जा रही है. या फिर आप सोच रहे हों कि हम दुल्हन के लिबास में बाज़ार में बिकने वाली किसी गुडिया की बात कर रहे हैं. दरअसल इस दुनिया में एक ऐसी जगह जहाँ सच में दुल्हन बिकती हैं.

यूरोप के बुल्गारिया में बिकती हैं दुल्हनें

यूरोप के बुलगारिया में स्टारा जागोर नामक एक ऐसी जगह है जहां पर दुल्हनों का बाजार लगता है. यह बाज़ार तीन साल में एक बार लगता है. यह बाज़ार किसी भी लड़की से ज़बरदस्ती किये बिना लगाया जाता है. यहाँ लड़कियां अपनी मर्ज़ी से अच्छे से तैयार हो कर आती हैं.

पीढ़ियों से लग रहा है दुल्हनों का मेला

यह मेला बुल्गारिया में कई पीढ़ियों से लग रहा है. दरअसल इस मेले की शुरुआत करने के पीछे एक कारण था. स्टारा जागोर नाम के इस गाँव में गरीबी अधिक होने कारण लड़कियों के विवाह में समस्या आया करती थी तो गाँव के बुजुर्गो ने इसके समाधान के लिए दुल्हनों का मेला लगाना शुरू किया.

एक तरह की पारिवारिक मिलन समारोह

बुलगारिया के ऐसे कई परिवार हैं जो आर्थिक रूप से सक्षम न होने की वजह से अपने बेटियों की शादी इस तरह तय करते हैं. इस मेले में लड़कियां अपने परिवार के लोगों के साथ ही आती हैं. इसे इस तरह समझिए कि एक पारिवारिक मिलन समारोह हो रहा है और दूल्हे वाले दहेज दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें

जब रातों-रात गायब हो गया कनाडा का एक गांव

बुज़ुर्ग भी होते हैं शामिल

दुल्हनों के इस बाजार में लड़के के साथ बुजुर्ग आदमी भी आते हैं जो अपनी पसंद की लड़की से बात करते हैं. लड़की पसंद आने पर लड़के के परिवार वाले लड़की के परिवार वालों को रुपए देते हैं और फिर उनकी बेटी को अपनी बहू बनाकर ले जाते हैं.

नियम का होता है सख्ती से पालन

इस मेले में नियम का सख्ती से पालन किया जाता है. यानी की लड़के वालों को पसंद आई लड़की को बहू मानना ही होता है. डेली मेल की एक रिपोर्ट के अनुसार यह मेला बुल्गारिया के कलाइदझी समुदाय द्वारा लगाया जाता है. समुदाय के अलावा कोई बाहरी व्यक्ति दुल्हन पसंद नहीं कर सकता.

यह मेला आर्थिक रूप से अक्षम लोगों के लिए लगाया जाता है और पूरी तरह से वैध है.

About the author

mm

Shweta Singh

Leave a Comment