महाराजा जिन्होंने अपमान का बदला लेने के लिए रोल्स रॉयस कारों से उठवाया शहर का कचरा

रोल्स रॉयस कार, नई कार रॉल्स रॉयस, भारतीय सैनिक, राजा की कहानी, भारत की कहानी,यह है दुनिया के राजा महाराजा कीकहानी, की & का

वैसे तो भारत के राजा महाराजा अपनी आन-बान और शान के लिए अपनी जान तक लगा देते थे, और जब बात देश की इज्जत और खुद के आत्म सम्मान की हो तो फिर ये कभी भी पीछे नहीं हटते। आज हम आपको किसी युद्ध की गाथा नहीं सुनाएंगे बल्कि भारत की एक रियासत के एक ऐसे राजा की कहानी सुनाएंगे, जिन्होंने विदेश में हुए अपने अपमान का बदला लेने के लिए ऐसी तरकीब निकाली के पूरी दुनिया देखती रह गई।

जिन कारों में हर किसी को बैठना तक नसीब नहीं होता, महाराजा जय सिंह प्रभाकर नें उन कारों में पूरे शहर का कचरा साफ करवाया।

हम बात कर रहें हैं हिन्दुस्तान की अलवर रियासत के महाराजा जय सिंह प्रभाकर की, जिन्होंने लग्जरी कार कम्पनी रोल्स रॉयस की धज्जियां उडा दी थी। दरअसल एक बार महराज जय सिंह प्रभाकर इंग्लैंड में रोल्स रॉयस के शॉरूम में कार देखने के लिए गए। उस समय महाराजा जय सिंह प्रभाकर अपने साधारण कपड़ो में थे।

आपके लिए एक और बेहतरीन कहानी :-

दुनिया के कुछ ऐसे स्थान जहाँ आपका जाना है सख्त मना

रोल्स रॉयस के शॉरूम में घुसते ही वहां के स्टाफ ने उनकी साधारण सी वेशभूषा देख, उन्हें एक साधारण आदमी समझा और उनकी बेइज्जती कर ये दर्शाया की उनकी हैसियत नहीं इस शॉरूम में आने की ये लग्जरी कार खरीदना तो दूर की बात।

इस भात से महाराजा के आत्म सम्मान को बेहद ठेस पंहुची और उन्होंने रोल्स रॉयस कम्पनी को सबक सिखाने की ठान ली। महाराजा जय सिंह प्रभाकर ने कुछ ही घंटो के बाद उस शॉरूम में खड़ी सभी 6 रोल्स रॉयस फैन्टम कारें खरीद ली, जो की उस समय की सबसे कीमती कारें थी।

सभी 6 कारों को लेकर वे भारत लौट आए। और रोल्स रॉयस कम्पनी को सबक सिखाने के लिए उन्होंने इन सभी कारों को शहर की गंदगी साफ करने में लगा दिया। शहर का जितना भी कचरा होता वो इन लग्जरी कारों में ही ढोया जाता। जिन कारों में लोगों को बैठना नसीब नहीं होता, महाराजा जय सिंह प्राभकर नें उन कारों में पूरे शहर का कचरा साफ करवाया।

धीरे-धीरे ये खबर पूरी दुनियी में फैल गई, जिससे रोल्स रॉयस की साख को भी धक्का लगा, क्योंकि उनकी कारें दुनिया में एक स्टेटस के लिए जानी जाती थी, और हिन्दुस्तान में इन्हीं कारों में कचरा उठाया जा रहा था, ये उनके लिए एक शर्म की बात थी।

जब कार कम्पनी को अपनी गलती का एहसास हुआ तो उन्होंने महाराजा जय सिंह प्रभाकर से न केवल माफी मांगी बल्कि उन्हें 6 रोल्स रॉयस कारें भी दी वो भी बिल्कुल मुफ्त। तो इस तरह महाराजा जय सिंह प्रभाकर ने न केवल अपने अपमान का बदला लिया, बल्कि कार कम्पनी को सबक सिखाते हुए पूरी दुनिया को ये बताया की हम हिन्दुस्तानी किसी से कम नहीं।

Leave a Reply