People

इतिहास की इन अमर प्रेम कहानियों के बारे में अगर नहीं जाना तो क्या जाना!

प्यार की,मोहब्बत के शेर, प्यार की एक कहानी,कहानी प्रेम की,प्रेम क्या है,प्यार मोहब्बत,प्यार की दर्द भरी कहानी,दुनिया के अनोखे रहस्य,लव की कहानी
mm
Written by Rahul Ashiwal

प्यार एक ऐसा शब्द जिसे ना तो तोला मोल जा सकता है और न कभी भुलाया जा सकता है। इतिहास में पनपी कुछ ऐसी प्रेम गाथाएं जिनके नाम सुनते ही आप सोचने पर मजबूर हो जाते है कि सच में प्यार में कोई इतना कैसे किस हद तक गुजर सकता है। जी हां दोस्तों आज हम बात करेंगे कुछ ऐसी ही प्रेम कहानियो की जिसमे अपने प्यार की खातिर सब कुछ हँसते हँसते सह जाना लाजमी समझा। प्रेम के ऐसे किस्से जो हमेशा हमेशा के लिए मिसाल बन गए है।आइये शुरू करते है प्यार का यह सफर।

1.लैला मजनूं

लैला मजनूं प्रेमियों की इतिहास गाथा में एक ऐसी कहानी के पात्र बन चुके हैं, जो आज भी प्यार करनेवालों के आदर्श एवं पवित्र प्रेम के पर्याय के रूप में स्थापित हैं, लेकिन कहते हैं ना कि जो मिल जाए वो मोहब्बत कहां। लैला और मजनूं की दर्द भरी प्रेम कहानी के बारे में कौन नहीं जानता। इनकी जुदाई ही इनकी मौत का कारण बनी।

2. हीर-रांझा

फिल्मी गानों से लेकर कहानियों तक मोहब्बत के नगमों में आज भी हीर-रांझा का नाम बड़ी शान से लिया जाता है, क्योंकि इनकी प्रेम कहानी है ही ऐसी। इस प्रेम कथा की नायिका हीर एक दौलतमंद खानदान से ताल्लुक रखती थी। वह बहुत खूबसूरत थी और हीर से बेहद प्रेम करती थी। हीर के घरवालों को ये रास नहीं आया और उन्होंने उसकी शादी कर दी, लेकिन शादी के बाद भी दोनों के प्यार में कोई कमी नहीं आई। रांझा हीर के प्यार में फकीर बनकर उसके गांव में पहुंच गया। इस प्रेम कहानी का अंत भी मौत से हुआ।

3. सोहणीं- महीवाल

आज भी जब कोई मोहब्बत की बातें करता है, तो सोहणीं और महीवाल का जिक्र जरूर आता है। पंजाब में सोहणीं-महीवाल की प्रेम कहानी आज भी लोग नहीं भूले, सोनी के पिता ने जब उसकी जबरन शादी कर दी तो दीवान महीवाल उसके गांव जा पहुंचा और शादी के बाद भी दोनों एक दूसरे से मिलते रहे बाद में दोनों की एक साथ मौत हो गई और दोनों हमेशा के लिए एक हो गए।

ये भी पढ़ें :-

जब रानी पद्मावती को गंवानी पड़ी थी अपनी जान

4. औरंगजेब- जैनाबाई

औरंगजेब को दुनिया सिर्फ एक क्रूर शासक के रूप में जानती है, लेकिन ऐसे क्रूर शासक के सीने में भी एक दिल था। कहते हैं कि धर्मांध मुगल शासक औरंगजेब भी एक महिला की मोहब्बत में गिरफ्तार था। इस महिला का नाम जैनाबाई था और नाचने गाने का काम करती थी, लेकिन अपनी छवि और जमाने में जगहंसाई के डर से औरंगजेब ने कभी इसे सामने नहीं आने दिया।

5. चंद्रगुप्त-हेलेना

चंद्रगुप्त के शौर्य के बारे में तो सब जानते है, लेकिन चंद्रगुप्त और हेलेना की प्रेम कहानी के बारे में कम ही लोग जानते है। मगध के राजा चंद्रगुप्त ग्रीस की हेलेना को देखकर इतने दीवाने हो गए कि उनको पाने के लिए उनके पिता सेल्युकस से यु्द्ध करने को तैयार हो गए। युद्ध में सेल्युकस को हराने के बाद उन्होंने हेलेना से शादी का प्रस्ताव रखा।

6. सलीम-अनारकली

इनकी प्रेम कहानी के बारे में कौन नहीं जानता, सलीम-अनारकली की कहानी ऐसी दर्द भरी दांस्तां हैं, जिसका अंजाम बेहद खतरनाक निकला। अनारकली को पाने के लिए शहजादे सलीम ने अकबर से युद्ध तक किया जिसमें शिकस्त का सामना करना पड़ा। अकबर ने यह शर्त रखी थी कि या तो सलीम अनारकली को उन्हें सौंप दे या फिर खुद मौत को गले लगा ले। सलीम ने अनारकली से दूर होने के बजाय मौत के मुंह में जाना बेहतर समझा, लेकिन आखिरी समय में अनारकली ने आकर सलीम की जान बचा ली और खुद को बादशाह अकबर के हवाले कर दिया अकबर ने उसे दीवार में चुनवा दिया।

7. बाजीराव-मस्तानी

इनकी प्रेम कहानी पर तो हाल ही में एक फिल्म भी बन रहीं है। मराठा पेशवा बाजीराव की दूसरी मुस्लिम पत्नी का नाम मस्तानी था। दोनों की प्रेम कहानी सदियों बाद भी लोग नहीं भूले। हालांकि अपनी मोहब्बत को पाने के लिए बाजीराव और मस्तानी को बहुत विवादों का और मुश्किलों का सामना करना पड़ा था, मस्तानी बाजीराव से इस कदर मोहब्बत करती थीं कि जब बाजीराव की मौत हुई तो उनकी चिता के साथ वो भी सती हो गई।

एक और दिलचस्प कहानी आपके लिए :-

जब भालुओं के गढ़ में हुआ मौत से सामना

8. बाजबहादुर- रूपमती

इनकी प्रेम कहानी के बारे में कम ही लोग जानते है। मालवा के सुल्तान बाज बहादुर ने शिकार के दौरान रूपमती को देखा और उनको दिल दे बैठे। एक सुल्तान ने एक मामूली सी लड़की को देखा और किसी की परवाह किए बिना उन्हें अपनी बेगम बना लिया। सुल्तान के घरवालों ने भी गैर-मुस्लिम रुपमती को नहीं स्वीकारा, लेकिन बाज बहादुर ने किसी की परवाह नहीं की, और अपनी मोहब्बत को मंजिल तक ले गए।

9.शाहजहां-मुमताज

इतिहास के पन्नों शाहजहां-मुमताज की प्रेम कहानी सबसे अनोखी है। इनके मोहब्बत की निशानी आज भी ताजमहल के रूप में मौजूद है। करोड़ों प्रेमी इसकी कसमें खाते हैं। मुगल बादशाह शाहजहां कि वैसे तो कई बेगमें थी, लेकिन मुमताज से उन्हें इतनी मोहब्बत थी कि उनकी मौत के बाद उन्होंने मुमताज की याद में ताजमहल बनवा दिया। प्यार का अजूबा माना जाने वाला ताज महल भारत का गर्व है।

About the author

mm

Rahul Ashiwal

1 Comment

Leave a Comment