Behind News

यह है देश की सबसे लम्बी सुरंग, जानिए इसकी खास बातें

कश्मीर का, विश्व का इतिहास, दुनिया का, विश्व का सबसे, नरेदर मोदी, विश्व इतिहास, सीसीटीवी कैमरे, बजट, प्रधानमंत्री मोदी, दुनिया का सबसे, modi ka, कैमरा का, सबसे बड़ी
mm
Written by Shweta Singh

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की सबसे लंबी और अत्याधुनिक सुरंग का उद्घाटन किया. इस टनल की लंबाई है 9.2 किलोमीटर. इस सुरंग को चेनानी-नाशरी नाम दिया गया. अब जम्मू से कश्मीर की ओर जाने वाले वाहनों को इस टनल से गुजरना काफी सस्ता पड़ेगा क्योंकि पहले चनैनी से नाशरी तक तक 41 किमी लम्बे रास्ते काफी टेढ़े मेढ़े और जबरदस्त चढ़ाई वाले थे जिस पर वाहन चलाना काफी मुश्किल होता था. आइये जानते हैं इस सुरंग के बारे में कुछ ख़ास बातें-

124 सीसीटीवी कैमरे 

इस सुरंग के भीतर और बाहर 124 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं. हर कैमरे की दूरी 75 मीटर है. यह 360 डिग्री घूमने वाले कैमरे हैं.

हवादार सुरंग

सुरंग के अंदर घुटन महसूस न हो इसलिए इसे पूरी तरह हवादार बनाया गया है, साथ ही निगरानी के लिए संचार व्यवस्था का दुरुस्त इंतजाम किया गया है.

साढ़े चार साल में किया निर्माण

विपरीत भौगोलिक परिस्थितियों में आरएफएंडएफएस ट्रांसपोर्ट नेटवर्क लिमिटेड ने देश की सबसे बड़ी सड़क परिवहन टनल का निर्माण रिकॉर्ड साढ़े चार साल में किया है. 286 किलोमीटर लंबी जम्मू-श्रीनगर चार लेन राजमार्ग वाली परियोजना का यह हिस्सा 9.2 किलोमीटर लंबी दोहरी ट्यूब सुरंग पर 23 मई 2011 मे शुरू हुआ. इस सुरंग मार्ग पर 3,720 करोड़ रुपए की लागत आई है.

चनैनी-नाशरी टनल नाम रखा गया

इसका नाम चनैनी-नाशरी टनल रखा गया है क्योंकि यह जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर चनैनी से शुरू होकर नाशरी नामक स्थान पर जाकर खुलती है.

आपके लिए एक और बेहतरीन कहानी :-

जानिए वो 10 खूबियाँ जो नरेन्द्र मोदी को बनाती हैं सबसे सफल नेता

अन्य ख़ास बातें-

  • 1200 मीटर की ऊंचाई पर बने इस सुरंग में दो समानातंर ट्यूब हैं. मुख्य ट्यूब का व्यास 13 मीटर है और सुरक्षा ट्यूब या निकास ट्यूब का व्यास छह मीटर है.
  • दोनों ट्यूब में 29 जगहों पर क्रॉस पैसेज है. मुख्य ट्यूब में हर 8 मीटर पर ताजा हवा के लिए इनलेट बनाए गए हैं. हवा बाहर जाने के लिए हर 100 मीटर पर आउटलेट बनाए गए हैं.
  • सुरंग में हर 150 मीटर पर एसओएस बॉक्स लगे हैं. आपातकालीन स्थिति में यात्री इनका इस्तेमाल हॉट लाइन की तरह कर सकेंगे.
  • आईटीसीआर से मदद पाने के लिए यात्रियों को एसओएस बॉक्स खोलकर बस ‘हैलो’ बोलना होगा.
  • एसओएस बॉक्स में फर्स्ट एड का सामान और कुछ जरूरी दवाएं भी होंगी ताकि किसी तरह का हादसा होने पर उन्हें तुरंत जरुरी मदद मिल सके.

About the author

mm

Shweta Singh

Leave a Comment