इस राज्य में है कबूतरों के लिए फ्लैट

आजकल इंडिपेंडेंट हाउस की जगह फ्लैट का चलन है. आपने आसपास बहुमंजिला इमारतें देखि होंगी. उसमे रहने वाले हम आम इंसान ही हैं. आप सोच रहे होंगे यह कैसी बातें कर रही है. फ्लैट्स में हम इंसान ही रहेंगे न. जी हाँ आप बिलकुल सही कह रहे हैं लेकिन भारत में एक जगह ऐसी भी है जहाँ इंसानों के लिए नहीं बल्कि पक्षियों के लिए १० मंजिला ईमारत बनायीं गयी है. चौंकिए मत यह बिलकुल सच है.

कबूतरों के लिए बनी ईमारत

भारत के एक राज्य राजस्थान के सीकर जिले में कबूतरों के लिए दस मंजिला एक ऐसी ईमारत बनायीं गयी है. इस बिल्डिंग में ११०० फ्लैट हैं. इस बिल्डिंग का लोकार्पण २ अप्रैल २०१७ को गोपाल गोशाला की ओर से किया गया है.

क्या है इस ईमारत की खासियत

इस दस मंजिला ईमारत के ११०० फ्लैट यानि घोंसलों में करीब ५५० कबूतरों के जोड़े रह सकते हैं. इस अनूठी ईमारत को बनाने में करीब ४ लाख रुपये की लागत आई है. दरअसल इस अनूठे भवन को बनाने का मकसद कबूतरों समेत अन्य पक्षियों को मौसम की मार से बचाना है. दरसल राजस्थान में जितनी अधिक गर्मी पड़ती है उतनी ही अधिक सर्दी भी और इस वजह से पक्षियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था. इतना ही नहीं बारिश के दिनों में भी जगह के आभाव के कारण सैंकड़ों के संख्या में पक्षी काल के गाल में समा जाते थे. सर्दी, गर्मी और बारिश से होने वाली परेशानियों से इन बेजान पक्षियों को बचाने के लिए यहां 10 मंजिला ईमारत का निर्माण किया गया है.

दाना पानी भी कराया जा रहा है मुहैया  

कूबतरों के लिए बने इस ईमारत में उन्हें न केवल रहने का स्थान दिया जा रहा है बल्कि पानी और खाने की व्यवस्था भी की जा रही है. इस ईमारत को देखने दूरदराज से लोग पहुँचते हैं और कबूतरों के खाने की व्यवस्था भी कर रहे हैं.

Leave a Reply