आखिर क्या है मदर ऑफ़ आल बम

गुरवार यानि १३ अप्रैल २०१७ को अमेरिका ने अफगानिस्तान में आईएसआईएस के ठिकानों पर गैर परमाणु बम गिराया है. अमेरिका ने जीबीयू-43 बम का इस्तेमाल पहली बार किया है. आप लोग जानना चाह रहे होंगे की यह किस प्रकार का बम है. तो चलिए हम आज आपके साथ इससे जुड़ी  कुछ अहम जानकारियां साझा करेंगे.

क्या होता है गैर परमाणु बम

जीबीयू-43/बी एक बहुत बड़ा बम है इसे एमओएबी यानि मदर ऑफ़ आल बम भी कहा जाता है. यह एक बेहद शक्तिशाली बम है .11 मार्च 2003 को फ्लोरिडा के ईगलिन एयर फोर्स बेस में एमोएबी बम का पहली बार विस्फोटक ट्राइटॉनल के साथ 70 रेंज पर परीक्षण किया गया था. इसके बाद 21 नवम्बर 2003 को इसका पुनः परीक्षण किया गया.

कुछ अन्य तथ्य

  • जीबीयू-43/बी मैसिव ऑर्डिनेंस एयर ब्लास्ट (एमओएबी) 21600 पाउंड यानि 9797 किलो का जीपीएस आधारित बम है.
  • अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन के अनुसार ‘मदर ऑफ ऑल बॉम्स’ सबसे बड़ा गैर-परमाणु बम है. इस बम को किसी भी लड़ाई में पहली बार इस्तेमाल किया गया है.
  • इसे लॉकहीड एमसी-130 एयरक्राफ्ट से गिराया गया.
  • इस बम को अमेरिकी सेना के लिए अल्बर्ट वीमोर्ट ने विकसित किया था.
  • साल 2003 में इराक युद्ध के दौरान ही इस बम को बनाया गया था, लेकिन इससे पहले कभी इसका इस्तेमाल नहीं किया गया.
  • जब साल 2003 में एमओएबी का टेस्ट किया गया था, उस समय 20 मील यानि करीब 32 किमी दूर से भी एक बड़े मशरूम के आकार का धुंआ उठते हुए देखा गया था.
  • इसके बाद रूस ने भी एक ऐसा ही बम बनाया जिसे एफोएबी यानि फादर ऑफ़ आल बम कहा गया.ऐसा इसलिए क्यूंकि रूस द्वारा बनाया गया यह बम अमेरिका के एमोएबी से चार गुना शक्तिशाली है.

गौरतलब है कि जीबी-43 का इस्तेमाल अफगानिस्तान के नंगरहार प्रोविंस में अचिन जिले की गुफाओं में छिपे बैठे आईएसआईएस के आतंकवादियों के खिलाफ किया गया है. जहां बम गिराया गया है वह जगह पाकिस्तान बॉर्डर के बिल्कुल करीब है.

Leave a Reply