Life

रेस्टोरेंट इंसानों का पर यहां वेटर हैं बन्दर

mm
Written by Shweta Singh

रेस्टोरेंट में खाना खाने तो आप सब अक्सर ही जाते होंगे और वहां जाते ही रेस्टोरेंट के  वेटर आपके पास आर्डर लेने आते होंगे. लेकिन अगर आपका आर्डर कोई बन्दर ले तो?? अरे क्या सोचने लगे. दरअसल दुनिया में एक ऐसा देश है जहां के एक रेस्टोरेंट में इंसान नहीं बन्दर वेटर हैं. चलिए आपको बताते हैं इस रेस्टोरेंट के बारे में.

जापान में है यह रेस्टोरेंट

आज आपको एक ऐसे होटल के बारे में हम जानकारी देते हैं जहां वेटर से संबधित सारे काम आम आदमी नहीं बल्कि बन्दर करते हैं. यह नज़ारा जापान की राजधानी टोक्यो में स्थित काबुकी रेस्टोरेंट का है. यहां आपके सारे आर्डर पूरे होंगे लेकिन आर्डर तो बन्दर ही लेंगे.

वेटर से समबन्धित सारे कार्य करते हैं बन्दर

आपको थोड़ी हैरानी तो होगी लेकिन यह बन्दर कस्टमर्स को उनकी सीट पर ले जाने,  दिशेज़ और ड्रिंक सर्व करने से लेकर हाँथ पोंछने के लिए तौलिया तक देने का काम करते हैं. जैसे ही कोई कस्टमर काबुकी रेस्टोरेंट मे प्रवेश करता है दोनो बन्दर अपने काम मे लग जाते हैं. एक कस्टमर को उसकी सीट तक ले जाता है और दूसरा उसके हाथ पोंछने के लिऐ टॉवल लेके आता है. उसके बाद एक बन्दर उनसे ऑर्डर लेता है और दूसरा बन्दर ऑर्डर सर्व करता है.

फुल यूनिफार्म में होते हैं यह अनोखे वेटर्स

इन अनोखे वेटर्स की ख़ास बात यह है कि यह पूरी तरह यूनिफार्म में रहते हैं. इतना ही नहीं कस्टमर्स से ज्यादा जुड़ने के लिए वे इंसानी मास्क भी पहनने लगे हैं. बंदरों के कारण यह रेस्टोंरेट हमेशा चर्चा का विषय रहता है और लोग अनोखा अनुभव लेने के लिए यहां आते हैं.

शिफ्ट्स में काम करते हैं यह अनोखे वेटर्स

यहाँ के अनोखे बन्दर नियमों के अनुसार सिर्फ २ घंटे ही काम करते हैं. ये बंदर शिफ्टस में काम करते हैं. इस रेस्टोरेंट में बंदर येट चेन और फुकु चेन, २००८ से वेटर का काम कर रहे हैं. इनमे से येट चेन बड़ा है. होटल मालिक ने अभी तीन और बंदरों को प्रशिक्षण देकर तैयार किया है.

एनिमल राइट्स के नियमों का पालन

जापान में एनिमल राइट्स के नियम काफी सख्त है और वहां जानवरों को पालने वालों को उन सभी नियमों का कड़ी से पालन करना पड़ता है. होटल के मालिक कोरू ओत्सुका ने सरकार से बंदरों के लिए अनुमति ली हुयी है.

क्या सोचने लगे? मन मचलने लगा न इस रेस्टोरेंट में जाने के लिए. अरे भाई खाना खाने के लिए इन अनोखे वेटर्स से मिलने के लिए.

About the author

mm

Shweta Singh

Leave a Comment