ऐसी जेल जिसे देखकर रूह कांप जाएगी 

जेल का नाम सुनते ही लोगों के मन में अजीब अजीब से ख्याल आने लगते हैं. आये भी क्यूँ न जेल है ही ऐसी जगह है जहां कैदियों को बाहरी दुनिया से अलग-थलग रखा जाता है. गुनाह के अनुसार कैदियों को सजा दी जाती है. लेकिन आज हम आपको ऐसी जेल के बारे में बतायेंगे जहां कैदी जाने से थर-थर कांपते थे. वह जेल कैदियों के लिए किसी यातनागृह से कम नहीं थी.

 

कहां है यह जेल

अमरीका के फिलाडेल्फिया स्थित “ईस्टर्न स्टेट पेनीटेनशियरी” जेल को सबसे “भुतहा इमारत” मानी जाती है. यह जेल १९७१ में बंद हुयी थी लेकिन १९९६ में बतौर म्यूजियम इसे फिर से खोल दिया गया.

 

क्यों कहते हैं इस जेल को यातनाघर

ऐसा कहा जाता है कि १८२९ में बनी इस जेल में कैदियों को सिंगल सेल में बंद करके रखा जाता था. कैदियों पर अत्याचार करने के मामले में यह जेल कई बार विवादों में भी रही. जेल के सुरक्षाकर्मी काफी क्रूर माने जाते थे. कैदियों को सेल से बाहर लाते समय वह उनके सिर को कपड़े से ढक देते थे. इतना ही नहीं जो कैदी उनकी बातों को मानने से मना करते, उन्हें सबसे ज्यादा प्रताड़ित किया जाता।

क्या थी उनकी टार्चर तकनीक

ईस्टर्न स्टेट पेनीटेनशियरी जेल में वाटर बाथ नाम की टार्चर तकनीक काफी चर्चित थी. इस तकनीक के अंतर्गत पहले कैदियों को पानी में डूबोया जाता, फिर उन्हें बाहर लटका कर सूखने के लिए छो़ड दिया जाता था. कड़ाके की ठंड में भी जबतक कैदियों के शरीर पर बर्फ की परत नहीं जम जाती थी, तब तक उन्हें उतारा नहीं जाता. अब आप अंदाज़ा लगा सकते हैं उनकी यातना देने की कोई सीमा नहीं थी.

इसके अलावा एक मैड चेयर नाम की टार्चर तकनीक भी हुआ करती थी. इस तकनीक में कुर्सी पर बैठकर कैदियों के शरीर के अंगों को बर्बरता से काटा जाता था.

 

क्या कहना है टूरिस्टों का

१९९६ में म्यूजियम बनने के बाद यह जेल टूरिस्टों के लिए पुनः खोली जा चुकी है. लेकिन इस जेल को देखने गए टूरिस्टों का अनुभव काफी अच्छा नहीं है. कुछ टूरिस्ट कहते हैं की जेल की जर्जर हो चुकी दीवारों से उन्हें रोने चीखने के आवाजें सुनाई दी थी. कुछ ने वहां कैदियों की परछाई भी देखी है. इन लोगों का मानना यह है कि यहाँ उन कैदियों की रूह भटकती है जिन्हें बहुत प्रताड़ित किया गया था. एक रिपोर्ट की मानें तो इस जेल के सेल ब्लॉक-१२ डरावनी हंसी व सुरक्षाकर्मी की परछाईं को लेकर काफी चर्चित हो चुका है.

हमारा उद्देश्य आपको डराना नहीं बल्कि इस खतरनाक जेल की जानकारी देना है और आपकी जानकारी के लिए बता दें afsaana.in भूत प्रेत जैसी अन्धविश्वास को नहीं मानता है.

Leave a Reply