Nature

इस रसीले फल से बनेंगे अब सोलर सेल 

mm
Written by Shweta Singh

वैज्ञानिकों की खोज और उनकी उपलब्धियां आए दिन हमें प्रगति की ओर लेकर जा रही हैं. जैसा कि हम सबको पता है कि ग्लोबल वार्मिंग से देश और दुनिया पर नया खतरा मंडरा रहा है. सूर्य की रोशनी से पृथ्वी की गर्माहट के कारण वातावरण में कॉर्बन डाईऑक्साइड का स्तर बढ़ रहा है लेकिन अब वैज्ञानिकों ने इससे निजात पाने के लिए एक नई चीज ढूंढ़ निकाली है.

क्या है रास्ता

आईआईटी रुड़की के वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं ने जामुन से सस्ते सौर सेल बनाने का तरीका ढूंढ निकाला है. शोधकर्ताओं की मानें तो जामुन में पाए जाने वाले पिगमेंट का इस्तेमाल सस्ते फोटो सेंसेटाइजर (प्रकाश इकट्ठा करने वाला) के रूप में किया है.

संवेदनशील सौर सेल

जामुन जैसे रसीले फल के इस कारगर उपयोग के बारे में आईआईटी रुड़की के सहायक प्रोफेसर और शोधकर्ता सौमित्रा सतपाठी ने बताया कि आईआईटी परिसर के अंदर जामुन के पेड़ों की संख्या बहुत अधिक है, जिसकी वजह से ये विचार आया कि इसका रंग डाई के लिए   सेंसिटिव सोलर सेल में उपयोगी साबित हो सकता है.

इथेनॉल का इस्तेमाल

वैज्ञानिकों ने इथेनॉल का इस्तेमाल कर जामुन से डाई निकाली. इनमें एक खास पिंगमेंट मौजूद होता  है, जिससे जामुन को विशेष तरह का रंग देने में मदद मिलती है. इन्हीं पिंगमेंट्स की मदद से वैज्ञानिकों ने सस्ता सोलर सेल बनाने का एक नया और अनोखा तरीका इजाद कर लिया है.

About the author

mm

Shweta Singh

Leave a Comment