People

इस रेस्टोरेंट में डरना मना है 

mm
Written by Shweta Singh

अभी तक मैंने आपको कई सारे रेस्टोरेंट्स से रूबरु कराया. कहीं पर बन्दर खाना परोसते हैं, तो कहीं पर रोबोट आपका स्वागत करते हैं, और तो और आपको मैंने उस रेस्टोरेंट के बारे में भी बताया जहाँ खाना आईपैड पर सर्वे किया जाता है. लेकिन इस बार मैं आपको जिस रेस्टोरेंट के बारे में बता रहीं हूँ वो थोडा अलग है और खौफनाक भी. इसलिए अगर आप वहां जाने का मन बनाएं तो पहले इसे पढ़ लें.

स्पेन में है यह रेस्टोरेंट

आज हम आपको स्पेन में स्थित एक ऐसे रेस्ट्रॉन्ट के बारे में बताने जा रहे हैं जहां इंसान नहीं बल्कि भूत खाना परोसते है. जी हां, बिलकुल सही सुना आपने. इतना ही नहीं इनके स्वागत का अगर आपने अंदाज़ देख लिया तो आपको हार्ट अटैक ही न आ जाए.

क्या है इस रेस्टोरेंट का नाम

इस रेस्टोरेंट का नाम ला मासिया एंकांटडा है, ये स्पेन के बार्सिलोना का सबसे जाना- माना रेस्टोरेंट है. इस रेस्टोरेंट के बारे में ऐसा कहा जाता है जिसके हिम्मत हो वही इस रेस्टोरेंट में जाए अन्यथा न जाए.

 

क्या है इस रेस्टोरेंट की थीम

दरअसल इस रेस्टोरेंट में जो लोग काम करते है वे भूत प्रेत के कपड़ों में होते है. जो भी ग्राहक इस रेस्टोरेंट में आता है उसका स्वागत खून से सने चाकू से किया जाता है. सुनकर डर लग रहा है न. इतना ही नहीं, आगे सुनिए…. इनके मनोरंजन करने का स्टाइल भी कुछ अलग ही है, यहाँ लाशों के बीच पार्टियां करी जाती है.

सत्रहवी शताब्दी में बनी थी ये बिल्डिंग

बताया जाता है कि इस बिल्डिंग का निर्माण सत्रहवीं सदी में जोसफ मा रिएस और सुरोका ने करवाया था. इसके आस-पास दो बिल्डिंग थी, जिसको लेकर विवाद हुआ. सिक्का उछालकर विवादों का निपटारा किया गया, जिसमें जोसफ की हार हुई और वह अपना घर भी खाली छोड़कर चला गया। वक़्त के साथ जोसफ वाला घर खंडहर में तब्दील हो गया.

 

क्या है इस थीम के पीछे की कहानी

बताया जाता है कि १९७० में बने इस रेस्टोरेंट के मालिकों का मानना था कि यह जगह शापित है. ऐसे में जब यहां पर उन लोगों ने रेस्टोरेंट बनाने की सोची तो इसका थीम भी भुतहा रखा। इसमें काम करने वाले सारे वेटर भूत-पिशाच के वेष-भूषा में लोगों को खाना परोसते हैं.

इस रेस्टोरेंट के हैं कुछ नियम

इस हॉंन्टेड रेस्टोरेंट में प्रवेश के भी कुछ नियम हैं, जिसके तहत दिल-अस्थमा के मरीजों, गर्भवती महिलाओं, विकलांगों और चौदह साल से कम उम्र के बच्चों का प्रवेश वर्जित है.

About the author

mm

Shweta Singh

Leave a Comment