भड़ास कैफे में आपका स्वागत है

जब कभी आपको गुस्सा आता है तो आपका मन क्या करता है…. यही की जो भी सामने आये या तो उसको मार दो या फिर जो सामान आपके आसपास है उसे तोड़ दें. लेकिन जनाब अपना नुकसान करना कहां की समझदारी है. चलिए आज आपको ऐसी जगह लिए चलते हैं जहां आप आसानी से अपना गुस्सा निकाल सकते हैं और आपको कोई रोकेगा टोकेगा नहीं.

इंदौर में है ऐसा कैफ़े

जनाब इन्दौर के एक कैफे में जाकर आप जमकर तोड़फोड़ मचा सकते हैं और आप से कोई कुछ नहीं बोलेगा. जी हां इस कैफे का नाम भड़ास कैफे है. कैफे का ऐसा नाम आप शायद पहली बार सुन रहे होंगे. यह अनोखा कैफे मध्य प्रदेश के इन्दौर शहर के चन्द्रनगर क्षेत्र में खुला है. लोग इस कैफे में जी-भर कर तोड़-फोड़ करते हैं और गुस्सा शान्त हो जाने पर खुद को तनावमुक्त महसूस करते हैं.

कुछ भी तोड़ो

यहां पर आप को कांच के गिलास, कप, कुर्सी, टीवी, लैपटॉप, कम्प्यूटर, सीपीयू, घड़ी से ले कर हर वो चीज मिलेगी जिसे तोड़ने में आप को मजा आये. गुस्सा निकालने के लिए यहां पंचिंग बैग्स से ले कर गुब्बारे तक मौजूद हैं. दो रुपये से पांच रुपये तक देकर आप कांच के गिलास तोड़ सकते हैं. पचास रुपये में आप के लिये घड़ी भी है. यहां पर बड़े सामान तोड़ने के लिए आपको और ज्यादा पैसे देने होंगे. मतलब जितना बड़ा सामान उतनी उसकी कीमत हालांकि इस नुकसान के मुकाबले यह कीमत कम है. इस कैफे की सबसे खास बात यह है कि यहां आप पर कोई रोक-टोक नहीं है.

ये भी पढ़ें- इसे कहते हैं असली जुगाड़

किसने खोला है यह कैफ़े

यह कैफे अतुल मलिकराम नाम के युवक ने खोला है. उन्‍होंने कहा कि ये भारत का पहला भड़ास कैफे है. आज की भाग-दौड़ भरी जिन्दगी में लोगों को तनाव और अवसाद से आजाद करने में ये कैफे बहुत मदद करेगा. इस कैफे में तोड़-फोड़ करके वो अपना मन शान्त कर पाएंगे. लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उन्हें तोड़-फोड़ से पहले ग्लव्स, हेल्मेट और ट्रैक सूट भी पहनाए जाते हैं. इस कैफे की दीवारों और छत पर हर तरफ नफरत, गुस्सा, गुबार, चीखना जैसे शब्द बड़े-बड़े अक्षरों में लिखे हुए हैं.

मैडिटेशन भी कर सकते हैं आप

भड़ास कैफे में आप कॉफी की चुस्कियों के साथ अपना मनपसन्द संगीत भी सुन सकते हैं. मैडिटेशन रूम में जा कर ध्यान कर सकते हैं. इस दौरान आपके मोबाइल और दूसरे गैजेट्स आपसे दूर रख दिए जाएंगे. जरूरत महसूस होने पर यह कैफे आपको साइकोलाजिस्‍ट का परामर्श भी दिलवाया जायेगा.

तो अब ज्यादा गुस्सा आये तो इधर उधर न जाइये भड़ास कैफ़े में जाकर अपने दिल का गुबार निकालिए.

Leave a Reply