यह है दुनिया की सबसे बूढी बच्ची 

चीन अनोखे आविष्कार करने के लिए काफी मशहूर है. चीन में कुछ ऐसा ही अनोखा कारनामा एक बार फिर हुआ है… क्या… आइये बताते हैं.

सबसे बूढी बच्ची का जन्म

चीन में हाल ही में दुनिया की सबसे बूढ़ी बच्ची पैदा हुई है. इसे एक ४५ साल की महिला ने जन्म दिया है. अब आप सोंच रहे होंगे कि यह नवजात बच्ची सबसे बूढ़ी कैसे हो सकती है, लेकिन यह सच है. इस नवजात बच्ची का जन्म १८ साल पहले फ्रीज किए गए भ्रूण से हुआ है.

बच्ची पूरी तरह से स्वस्थ
चीन में जन्मीं यह नन्ही बच्ची जितनी सुंदर है उतनी ही इसके जन्म के पीछे की कहानी शॉकिंग हैं. इस बच्ची का जन्म शंघाई स्थित फुजान विश्वविद्यालय के स्त्री रोग अस्पताल में हुआ है. इसे जन्म देने वाली इसकी मां हुआंग क्यूआंग की उम्र भी इस समय ४५ वर्षीय है. बच्ची का वजन ३,३०० ग्राम है.

ये भी पढ़ें-१०१ साल की उम्र में भी हैं इनके हौंसले बुलंद

आईवीएफ के तहत हुआ बच्ची का जन्म
महिला का कहना है कि उसे फैलोपियन ट्यूब में ब्लॉकेज की परेशानी थी. उस समय उसकी उम्र करीब सत्ताईस साल थी. काफी ट्रीटमेंट के बाद जब उसे राहत नहीं मिली तो उसने आईवीएफ तकनीकि से गर्भधारण की कोशिश की क्योंकि उसके पास यही एक रास्ता था. इसके बाद वह शंघाई स्थित फुजान विश्वविद्यालय के स्त्री रोग अस्पताल गई. यहां पर डॉक्टरों से कंसल्ट करने के बाद १९९८ में आईवीएफ के तहत बेबी कंसीव करने की कोशिश की लेकिन वह इसमें भी असफल रही. महिला के अंदर एक बार ताजे और दो बार जमे हुए भ्रूण डाले गए लेकिन सफलता नहीं मिली.

भ्रूण जमा करा दिए
हालांकि उसने तब भी हिम्मत नहीं हारी. उसने वो भ्रूण वहीं पर जमा करा दिए. डॉक्टर्स ने फ्रोजेन भ्रूण माइनस से १९६ डिग्री सेल्सियम के बीच नाइट्रोजन में रख दिए. इस दौरान वह लगातार डॉक्टरों से कनेक्ट रही. इसके बाद पिछले साल नवंबर २०१५ में वह फिर हॉस्पिटल गई. यहां पर डॉक्टरों ने उसकी जांच की और उसे प्रेग्नेंसी कंसीव करने की सलाह दी.

हालांकि इस दौरान उसकी सर्जरी कराई गई. इसके बाद उसमे भ्रूण प्रत्यारोपित किया गया. इस बार सफलता मिल गई और उसे बेटी पैदा हुई है. बतातें चलें कि चीन में आईवीएफ तकनीकि से गर्भधारण करने की प्रक्रिया काफी तेजी से बढ़ रही है.

Leave a Reply