बिना बिजली के एसी से होगा घर ठंडा 

गर्मी में बिना पंखे, कूलर या एयर कंडीशनर के हाल बेहाल कर देती है और अगर यह सब चलता है तो बिजली का बिल दुखी कर देता है. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा बिना किसी परेशानी के आप  भी एसी चला सकेंगे और ठंडक भी महसूस कर सकेंगे, कैसे आइये बताते हैं-

आईआईटी छात्रों का कमाल

आई आई टी खड़गपुर के दो छात्रों ने एक कमाल का अविष्‍कार कर डाला है, जो आपको गर्मी से राहत दिलाएगा और बिजली के बिल से भी छुटकारा दिलाएगा. इन छात्रों ने एक ऐसे वाटर टैंकर की खोज की है जो भविष्य में एसी के विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है. दीवार के भीतर फिट किए जाने वाले वाटर टैंक के इस्‍तेमाल से आने वाला आपका बिजली बिल पचास प्रतिशत तक कम हो सकता है. खास बात ये है कि एक होम कूलिंग सिस्‍टम पूरी तरह इको फ्रेंडली भी है.

पैसिव सोलर वाटर वॉल है इसका नाम

‘पैसिव सोलर वाटर वॉल’ के नाम से बने इस कूलिंग सिस्‍टम को बनाने वाले आईआईटी खड़गपुर के छात्रों की इस खोज को शेल आइडियाज 360 ऑडियंस चॉइस अवॉर्ड्स में टॉप फाइव में शामिल किया गया है. भूभौतिकी विभाग की टेकनिक टीम में शामिल इन स्‍टूडेंटस के नाम शहश्रंसु मौर्या और सोमरूप चक्रवर्ती हैं. पैसिव सोलर वाटर वॉल एक आयताकार वाटर टैंक है जिसे दीवार के अंदर फिट किया जाता है.

कैसे करता है काम

मौर्या और चक्रवर्ती का कहना है कि यह वाटर टैंक पुराने टैंकरों से कुछ अलग है क्योंकि इसका सतही क्षेत्र काफी अधिक है. ऐसा इसलिए किया गया है जिससे टैंक तक ज्यादा से ज्यादा मात्रा में हवा पहुंच सके और इसको तेजी से ठंडा करने में सहायता करे. कहा जा रहा है ये आने वाले समय में एसी का विकल्प बना सकता है. इसे दीवारों के अंदर इस तरह से फिट किया जाएगा, ताकि कमरे का तापमान पूरी तरह से नियंत्रण में रहे. इस वजह से ऐसा होगा कि बिजली चली भी जायेगी तो भी इतनी ठंडक बनी रहेगी कि आप पसीने भरी गर्मी की चिपचिपाहट से बचे रहेंगे. इसमें बिजली की खपत काफी होगी. साथ ही ये इको फ्रेंडली है क्‍योंकि ये अंदर की गर्म हवा बाहर की ओर नहीं फेंकता जिससे ग्‍लोबल वार्मिंग का खतरा नहीं रहेगा.

Leave a Reply