इसे गधा नहीं कीमती गधा कहिये जनाब

अगर आपको कोई गधा कह दे तो आपको बुरा लगेगा, अरे भाई बुरा लगना लाज़मी भी है. वैसे तो गधा कितने काम का है यह तो आप सब ही जानते होंगे. वो बोझा उठाने में काफी माहिर होता है. और क्या आप जानते हैं की गधा सबसे समझदार जानवर होता है. वो बात अलग है कि यह बात सबको हास्यास्पद लगती है. आप सोच रहे होंगे हम आपको यहां गधे की जानकारी क्यों दे रहे हैं. वो इसलिए कि शायद देश में गधों की किस्मत बदलने वाली है तभी अब एक गधे की कीमत कार से महंगी लगाई जा रही है.

कहां का हैं मामला

वैसे यह गधा हरियाणा का है लेकिन इसकी कीमत सुनकर होश उड़ सकते हैं. इस गधे की कीमत दस  लाख है. आज इतनी कीमत में शानदार कार आ सकती है. ‘टिप्पू’ नाम का ये गधा कोई ऐसा वैसा नहीं बल्कि देश में अब तक का ‘सबसे महंगा गधा’ है.

कार से भी कीमती है यह गधा  

सोनीपत में रहने वाल टिप्पू के मालिक राज सिंह ने इसकी कीमत दस  लाख रुपये लगाई है. राज सिंह के मुताबिक उनके पास पांच  लाख रुपए में ‘टिप्पू’ को खरीदने की पेशकश आ भी चुकी है. ब्रीडिंग के कारोबार में लगे राज सिंह ने बताया, ‘टिप्पू कोई मामूली गधा नहीं है. ये साधारण गधों के कद से सात इंच लंबा है. इसका ब्रीडिंग के लिए इस्तेमाल किया जाता है. रोहतक के बेरी पशु मेले में उत्तर प्रदेश के एक ब्रीडर ने इसे खरीदने के लिए 5 लाख रुपये की बोली लगाई थी लेकिन उन्होंने बेचने से मना कर दिया. ये सबसे अलग है और सबसे बड़ा है, इसलिए वो इसे 10 लाख से कम में नहीं बेचना चाहते.

शाही अंदाज में जी रहा है टिप्पू

गधे के मालिक के मुताबिक ‘टिप्पू’ सबसे अलग है इसलिए उसके नखरे उठाने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी जाती. ‘टिप्पू’ किस शाहाना अंदाज से जी रहा है, ये इसकी खुराक से ही अंदाज लगाया जा सकता है. ये हर दिन 5 किलोग्राम काले चने, 4 लीटर दूध और 20 किलो हरा चारा हजम कर जाता है. खाने के बाद मीठे में ‘टिप्पू’ को लड्डू चाहिए ही चाहिए वरना इसका मूड खराब हो जाता है. ‘टिप्पू’ पर एक दिन का खर्च १०००  रुपये बैठता है.

 

यह गधा नहीं स्टार है

इसके अलावा जनाब को सुबह-शाम सैर की भी आदत है. मजाल है जो ‘टिप्पू’ के इस रूटीन में कोई खलल आ जाए. राज सिंह के मुताबिक जब ‘टिप्पू’ को खुले में घूमने के लिए ले जाया जाता है तो वो जमीन पर लोट लगाने के साथ तमाम तरह की मस्ती करता है. ‘टिप्पू’ के तबेले पर भी उसे गर्मी से बचाने के लिए हर वक्त पंखा चलता रहता है. राज सिंह का कहना है कि टिप्पू उनके लिए गधा नहीं स्टार है.

ब्रीडिंग के लिए मिलते हैं 10 हजार रुपये

ब्रीडिंग के लिए मशहूर ‘टिप्पू’ का जलवा सिर्फ हरियाणा में ही नहीं दूर-दूर तक फैला है. हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड तक से ब्रीडर ‘टिप्पू’ की ‘सेवाएं’ लेने आते हैं. ब्रीडिंग के लिए एक बार ‘टिप्पू’ के इस्तेमाल की कीमत दस हज़ार रुपए है.

टिप्पू के बाद सुपर गधा बनाने की तैयारी

राज सिंह के मुताबिक ब्रीडिंग के कारोबार में उनके भाई रजनीश और भतीजा सुमित भी साथ देते हैं. ये उनका पारिवारिक पेशा है. इससे पहले उनके पिता धर्म सिंह पांच दशक से इस पेशे में थे जिनका पिछले महीने ही निधन हुआ. राज सिंह ने बताया कि उनका परिवार पहले भी तीन से साढ़े तीन लाख की कीमत में गधे बेच चुका है. बागपत के एक किसान ने उनसे साढ़े तीन लाख में गधा खरीद कर आगे पांच  लाख रुपए में बेचा.

इस परिवार के मुताबिक अब उनका इरादा ‘सुपर गधा’ विकसित करने का है जो ‘टिप्पू’ से भी ऊंचा और मजबूत होगा और जिसकी कीमत 20 लाख रुपये तक लग सकेगी.

 

Leave a Reply